अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली - कब पहुंचे, कैसे पहुंचे, सही समय, टिकट प्राइस

क्या आप अक्षरधाम मंदिर घूमना चाहते हैं ? आपको यह जानने की जरूरत है कि अक्षरधाम कब पहुंचे, कैसे पहुंचे, खुलने का समय, टिकट प्राइस और सम्पूर्ण यात्रा
अक्षरधाम मंदिर दिल्ली का सबसे महत्वपूर्ण मंदिर है। क्या आप जानते हैं? अक्षरधाम मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू तीर्थ स्थल भी है। और इसका नाम 2007 में गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया गया था। लोगों में सबसे बड़ा उत्साह उस दिन था जब किसी हिंदू धर्म के नाम पर पहली बार मंदिर को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया था।

इस मंदिर में स्वामी नारायण जी की पूजा की जाती है। यह मंदिर भारतीय इतिहास के सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। इसी के साथ मैं आपको बहुत सी बातें बताने जा रहा हूं, अगर आप वहां जा रहे हैं तो आपको पता होना चाहिए कि अक्षरधाम मंदिर तक कैसे पहुंचा जाए ? वहां आप क्या क्या कर सकते है, टिकट की कीमत और सही समय क्या होगा ? साथ ही आप अक्षरधाम मंदिर का इतिहास जानेंगे। आप इस जानकारी को English में भी पढ़ सकते है।
 

पीक सीजन: फरबरी
ऑफ़ सीजन: दिसम्बर
लोकप्रियता: हिन्दू धाम
रेटिंग: ⭐⭐⭐
टिकट प्राइस: ₹350
समय: 9:30 AM - 6 PM

Akshardham Temple, Delhi Travel Guide
अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली - सम्पूर्ण यात्रा

अक्षरधाम मंदिर दिल्ली के लक्ष्मी नगर के पास स्थित है। यह 356 फीट लंबे और 316 फीट चौड़े क्षेत्र में फैला हुआ है जो कि 141 फीट ऊंचा भी है। यह अक्षरधाम मंदिर लाल पत्थर और सफेद संगमरमर से बना है। आश्चर्य की बात यह है कि इस अक्षरधाम मंदिर के निर्माण के दौरान एक भी स्टील का इस्तेमाल नहीं किया गया है। इस मंदिर का निर्माण पांच शास्त्रों के अनुसार किया गया है।

अक्षरधाम मंदिर की सभी दीवारों पर आपको कई खूबसूरत कलाकृतियां और बेहद अद्भुत नक्काशी देखने को मिलेगी। जो आपका दिल जीत लेगी। मंदिर के अंदर आपको नीलकंठ जी की मूर्ति भी देखने को मिलेगी। वैसे आपको इस मंदिर की सभी दीवारों पर मूर्तियां देखने को मिलेंगी। इस मंदिर में कुल मिलाकर 20,000 मूर्तियाँ हैं। और मंदिर के केंद्र में स्वामी नारायण जी की मूर्ति मौजूद है।

Night View - Akshardham Temple, Delhi Travel Guide
रात का नजारा - अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

ये हैं अक्षरधाम मंदिर के सबसे खास तीन हॉल। जिसमें शाहनंद दर्शन हॉल में रोबोटिक तरीके से स्वामी नारायण जी के जीवन काल को दिखाया गया है। स्वामी नारायण के जीवन पर आधारित फिल्म नीलकंठ दर्शन हॉल में दिखाई जाती है। और अंत में, भारत के इतिहास पर एक डॉक्युमेंटरी विहार हॉल में दिखाया गया है।

आप देखेंगे अक्षरधाम मंदिर के अंदर और बाहर का परिसर बेहद साफ-सुथरा है। इसका डिजाइन बेहद खूबसूरत और अनोखा है। अक्षरधाम मंदिर परिसर के बाहर गाय के मुख से निकलने वाली जलधारा बहुत लोकप्रिय है। और साथ में बना नारायण सरोवर भी बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।
दिन में यह मंदिर देखने में जितना खूबसूरत लगता है, उतना ही रात में भी उतना ही खूबसूरत लगता है। इस नारायण सरोवर पर शाम 7:45 बजे एक म्यूजिकल वाटर शो का भी आयोजन किया जाता है। इस म्यूजिकल वाटर शो के कार्यक्रम को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ती है।

Musical Water Show - Akshardham Temple, Delhi Travel Guide
म्यूजिकल वाटर शो - अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

योगी हार्ट लोटस, कमल के फूल के आकार में बना एक बगीचा भी बहुत लोकप्रिय है। आपको इन जगहों पर जरूर जाना चाहिए। अक्षरधाम मंदिर में एक संग्रहालय भी है, जिसमें आप भारत के इतिहास को करीब से देख सकते हैं। और आप स्वामी नारायण के इतिहास के बारे में भी अच्छी तरह से जान सकते हैं।

अक्षरधाम मंदिर का इतिहास

इस अक्षरधाम मंदिर का उद्घाटन 6 नवंबर 2005 को डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम। इस मंदिर को बनाने में 5 साल का समय लगा था। यह मंदिर ज्योतिर्धर स्वामी नारायण की याद में बनाया गया था। BAPS (बोचासनवासी श्री अक्षर पुरुषोत्तम संस्था) ने इस मंदिर का निर्माण करवाया था। इस मंदिर को बनाने में देश के 11000 से अधिक कारीगरों और देश के लोकप्रिय शास्त्रकारों ने अपना योगदान दिया है।

स्वामी नारायण कौन हैं ?

स्वामी नारायण एक महान व्यक्ति थे। उन्होंने स्वामी नारायण समाज की स्थापना की। उनके भक्त स्वामी नारायण जी को भगवान का रूप मानते थे। स्वामी नारायण जी ने अपने चमत्कारों से दुनिया को नई दिशा दी। इसी तरह महात्मा गौतम बुद्ध थे, जिन्हें लोग वास्तविक भगवान का रूप मानते थे।

स्वामी नारायण जी का जन्म 1837 में उत्तर प्रदेश के छपिया गाँव में हुआ था। आप भागवत पुराण और स्कंद पुराण में स्वामी नारायण जी के चमत्कारों के बारे में पढ़ सकते हैं। बचपन में स्वामी नारायण जी का नाम घनश्याम था।

Akshardham Temple, Delhi Travel Guide
अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

स्वामी नारायण जी का जन्म उसी तिथि को हुआ था जिस दिन भगवान राम का जन्म हुआ था। इसीलिए उनका नाम घनश्याम रखा गया। वेद पुराण से ज्ञान प्राप्त करने के बाद, उन्होंने अपना घर छोड़ दिया। और वह दुनिया को एक नया रास्ता देने लगे। उन्होंने मात्र 7 वर्षों में पूरे भारत का भ्रमण कर लिया था।

फिर उन्होंने पूरे भारत में अपना ज्ञान फैलाया। इस तरह स्वामी नारायण जी लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हो गए। उन्होंने पंडितों के साथ ज्ञान साझा करना भी शुरू कर दिया। इस तरह वे पूरे भारत में अपने चमत्कारों से लोगों को लाभान्वित किया और वह एक देवता बन गए। आज जहां अक्षरधाम मंदिर का निर्माण हुआ। स्वामी नारायण अपने जीवन के अंतिम दिनों में यहां रहते हैं।

जाने से पहले जानने योग्य बातें

यदि आपके पास असली लेदर से बना बटुआ, बेल्ट या जैकेट है, तो आपको अंदर जाने की अनुमति नहीं होगी। साथ ही अगर आपके पास स्टील का लॉकेट, अंगूठी, चेन या ऐसा कुछ भी है तो आपको अंदर नहीं जाने दिया जाएगा। इसके लिए आप इन सभी चीजों को घर पर ही छोड़ दें। अगर आपके पास प्राइवेट कार है तो आप अपना सामान कार में भी रख सकते हैं। या फिर आपको मंदिर में बने लॉकर का इस्तेमाल करना होगा। इसके लिए आपको लंबी लाइन में खड़ा होना पड़ सकता है।

Sky View - Akshardham Temple, Delhi Travel Guide
स्काई व्यू - अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली
इसके अलावा आप इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे मोबाइल, कैमरा, पावर बैंक, हथियार, छाता, लाठी, खाना, सामान या कोई पालतू जानवर भी नहीं ला सकते। आपको पहले ही बता दूं कि आप अंदर फोटोग्राफी या वीडियोग्राफी नहीं कर सकते। इसके लिए आपको जुर्माना भी देना पड़ सकता है। ये सारे काम आप मंदिर के बाहर से भी कर सकते हैं। 2000 वाहनों की क्षमता के साथ विशाल पार्किंग सुविधाएं उपलब्ध हैं। तो पार्किंग की चिंता न करें।

दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर कैसे पहुंचें ?

  • नजदीकी बस स्टॉप: अक्षरधाम स्टेशन अक्षरधाम मंदिर का सबसे नजदीकी बस स्टॉप है। यह सिर्फ 1 किमी दूर है।
  • नजदीकी मेट्रो स्टेशन: अक्षरधाम, अक्षरधाम मंदिर का सबसे नजदीकी मेट्रो स्टेशन है। यह सिर्फ 1 किमी दूर है।
  • नजदीकी रेलवे स्टेशन: नई दिल्ली अक्षरधाम मंदिर का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है। यह 9.8 किमी दूर है।
  • नजदीकी हवाई अड्डा: IGI अक्षरधाम मंदिर का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है। यह 22 किमी दूर है।

अक्षरधाम मंदिर का समय

अक्षरधाम मंदिर के खुलने का समय सुबह 9:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक है। इसके बाद जो पहले से ही अंदर रह गए हैं, तो उनके जाने का समय म्यूजिकल फाउंटेन शो देखने के बाद रात 8 बजे है। यह अक्षरधाम मंदिर सोमवार को बंद रहता है। तो आप यहां सोमवार को छोड़कर कभी भी आ सकते हैं।

अक्षरधाम मंदिर में दिन में दो बार आरती की जाती है। पहली आरती सुबह 10 बजे होती है। वहीं दूसरी आरती शाम 6:30 बजे है। टिकट काउंटर सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है। अगर आपने शाम 6 बजे से पहले अपना टिकट लिया है तो आप रात 8 बजे तक मंदिर के अंदर रह सकते हैं।

Akshardham Temple, Delhi Travel Guide
अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

अक्षरधाम मंदिर का टिकट प्राइस

अक्षरधाम मंदिर (दान) टिकट की कीमत

No टिकट प्राइस
1 4 साल से कम फ्री
2 4 साल से ज्यादा ₹50

प्रदर्शनी का टिकट प्राइस

No Ticket Price
1 4 साल से कम Free
2 4 साल से 12 साल ₹95
3 12 साल से 60 साल ₹170
4 60 साल से ज्यादा ₹135

म्यूजिकल वाटर शो का टिकट प्राइस

No Ticket Price
1 4 साल से कम Free
2 44 साल से 12 साल ₹50
3 12 साल से ज्यादा ₹80

अभिषेक मंडप का टिकट प्राइस

No Ticket Price
1 4 साल से कम Free
2 4 साल से ज्यादा₹50

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. अक्षरधाम मंदिर क्या है ?
अक्षरधाम मंदिर गौतम बुद्ध के शिष्य स्वामी नारायण की स्मृति में बना एक मंदिर है। यह अपनी भव्य नक्काशी के कारण बहुत प्रसिद्ध है।

Q. अक्षरधाम जाने का सबसे अच्छा समय क्या है ?
अक्षरधाम मंदिर में आप सोमवार को छोड़कर कभी भी आ सकते हैं। यह सुबह 7:30 बजे से शाम 4 बजे तक खुला रहता है।

Q. अक्षरधाम में किस चीज की अनुमति नहीं है ?
अक्षरधाम मंदिर में चमड़े का सामान, मोबाइल, कैमरा, पॉकेट हथियार, पालतू जानवर और किसी भी बैग को ले जाने की अनुमति नहीं है।

Q. भारत में कितने अक्षरधाम मंदिर हैं ?
भारत में कुल 12 अक्षरधाम मंदिर हैं।

Q. क्या दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर में पार्किंग की सुविधा है ?
जी हां, अक्षरधाम मंदिर दिल्ली में पार्किंग के लिए काफी जगह है।

एक टिप्पणी भेजें