जटायु पार्क, केरल - टिकट प्राइस, कब पहुंचे, कैसे पहुंचे, एक्टिविटी

क्या आप जटायु पार्क घूमना चाहते हैं? आपको पता होना चाहिए कि जटायु पार्क का टिकट प्राइस क्या है ? कब और कैसे पहुंचा जाए, एक्टिविटी और पूरी जानकारी
जब रावण सीता का अपहरण कर रहा था, तब जटायु नाम का एक गिद्ध सीता को बचाना चाहता था। लेकिन रावण ने जटायु का एक पंख काट दिया जिससे जटायु जमीन पर गिर पड़ा। जिस स्थान पर जटायु गिरा था, आज वहां जटायु पार्क बना है, जहां जटायु नामक पक्षी की एक बड़ी मूर्ति बनाई गई है।

दोस्तों जटायु की मूर्ति इतनी बड़ी है कि इस मूर्ति का नाम विश्व की सबसे बड़ी पक्षी प्रतिमा के रूप में विश्व रिकॉर्ड में दर्ज हो गया है। कटे हुए पंख वाले पक्षी जटायु की मूर्ति दुनिया भर में लोकप्रिय है। इसे देखने के लिए बाहरी देशों से भी लोग यहां आते हैं। आप इस जानकारी को English में भी पढ़ सकते है।

पीक सीजन: जून
ऑफ़ सीजन: जनवरी
लोकप्रियता: दुनिया का सबसे बड़ा पक्षी प्रतिमा
रेटिंग: ⭐⭐⭐⭐⭐
टिकट प्राइस: ₹900
समय: 9:30 AM - 5:30 PM

Jatayu Park Kerala - History and Guide
जटायु पार्क, केरल

आइए, मैं आपको जटायु पार्क की पूरी सैर कराता हूं। मैं आपको इसके इतिहास की गहराई में भी ले जाऊंगा। और मैं आपको जटायु पार्क के आसपास के सभी होटल और रेस्टोरेंट की जानकारी भी दूंगा। साथ ही मैं आपको यह भी बताऊंगा की आप यहां क्या क्या कर सकते है।

जटायु पार्क, केरल - सम्पूर्ण यात्रा

जटायु पार्क केरल के कोल्लम जिले में स्थित जटायु पर्वत पर बना है। इस जटायु पार्क पार्क में दुनिया की सबसे बड़ी पक्षी प्रतिमा जटायु की मूर्ति बनाई गई है। जटायु पार्क में जटायु की मूर्ति को देखने के लिए हर दिन 10 हजार पर्यटक आते हैं।

Jatayu Park Kerala - History and Guide
जटायु पार्क, केरल

इस मूर्ति का निर्माण राजीव आंचल ने जटायु की याद में करवाया था, जो एक फिल्म निर्देशक भी रह चुके हैं। उनका कहना है कि जटायु दुनिया का पहला पक्षी है जिसने एक महिला की जान बचाने के लिए अपने प्राणों को त्याग दिया। जटायु की इस मूर्ति को बनने में 7 साल लगे और 2016 में इसका उद्घाटन किया गया। और फिर यहां हर दिन भारी भीड़ आने लगी।

यह जटायु प्रतिमा समुद्र तल से 1000 फीट की ऊंचाई पर स्थित जटायु पर्वत पर बनी है। यह जटायु पार्क 30,000 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है। और जटायु की मूर्ति 200 फीट चौड़ी और 150 फीट लंबी और साथ ही इसकी ऊंचाई 70 फीट है।

Jatayu Park Kerala - History and Guide
जटायु पार्क, केरल

यह मूर्ति पूरी तरह से कंक्रीट से बनी है। और इस मूर्ति को बनाने के लिए किसी मशीन का इस्तेमाल नहीं किया गया है। आपको एक बात बता दें कि जटायु की मूर्ति पूरी तरह से निजी है। जटायु पार्क सरकारी विरासत नहीं है। जटायु की मूर्ति का रंग भी समय-समय पर बदलता रहता है। उदाहरण के लिए, यदि आप दिन के दौरान देखते हैं, तो यह लाल दिखाई देगा और शाम को या बादल के दिनों में यह ग्रे दिखाई देगा।
जैसा कि मैंने आपको बताया, यह जटायु की मूर्ति काफी ऊंचाई पर बनी है। तो यहाँ आने के बाद आपको बहुत अच्छा लगेगा, खुले आसमान के नीचे तेज हवा के चलने से मन को बहुत शांति मिलती है। इस प्रतिमा के प्रथम नेत्र से सूर्योदय तथा द्वितीय नेत्र से सूर्यास्त देखा जा सकता है।

जटायु प्रतिमा के अंदर एक डिजिटल संग्रहालय और 3डी थियेटर भी है जो जटायु के जीवन को दिखाता रहता है। इसके साथ ही जटायु पार्क में एडवेंचर रिजॉर्ट, स्पोर्ट्स और गेम्स जोन भी हैं। जिसमें आप 50 तरह के खेल और एडवेंचर कर सकते हैं।

एक्सपर्ट के साथ डिस्कस करें

एडवेंचर सेंटर - जटायु पार्क, केरल

जटायु पार्क एडवेंचर सेंटर जाने के लिए आप मेन गेट से ही एंट्री ले सकते हैं, यहां आपको अपना सामान सुरक्षित रखने के लिए एक लॉकर भी दिया जाएगा।

जटायु एडवेंचर सेंटर में आप कई गतिविधियां कर सकते हैं। यहां आप PUBG की तरह शूटिंग, ट्रैकिंग, रॉक क्लाइंबिंग, कैंपिंग और तीरंदाजी भी कर सकते हैं। यदि आप निशानेबाजी, ट्रैकिंग और अन्य खेल नहीं जानते हैं तो आपको सभी खेलों में प्रशिक्षण भी दिया जाएगा ताकि आप बेहतर खेल सकें। यहां आपको प्राकृतिक गुफाएं भी देखने को मिलेंगी जो आपको बेहद पसंद आएंगी।

Jatayu Park Kerala - History and Guide
एडवेंचर सेंटर और गेम सेंटर - जटायु पार्क, केरल

एक्टिविटी - जटायु पार्क, केरल

आप यहां शूटिंग कर सकते हैं। मैं वीडियो शूट करने की बात नहीं कर रहा हूं। मैं यहां गन शूटिंग की बात कर रहा हूं जैसे आप PUBG में करते हैं। इसके अलावा आप यहां तीरंदाजी भी कर सकते हैं। आप यहां रॉक क्लाइंबिंग भी करते हैं। इसके साथ ही आप कमांडो वॉकिंग, रोप क्लाइम्बिंग, रोप पर वॉकिंग, चिमनी क्लाइम्बिंग, ट्रैकिंग, कैंपिंग और भी बहुत कुछ कर सकते हैं।

अगर आप थके हुए हैं तो आपको यहां एक छोटा सा रेस्टोरेंट भी दिखाई देगा जिसमें आप फ्री में नाश्ता कर सकते हैं। इस रेस्टोरेंट में आपको सिर्फ वेज खाना ही मिलेगा। और आप बाहर से नॉनवेज भी नहीं ला सकते। क्योंकि यहां नॉनवेज लाने या खाने की इजाजत नहीं है।

हेलीकाप्टर की सवारी - जटायु पार्क, केरल

आपको बता दें कि हेलीकॉप्टर के जरिए आप आसमान से पूरा जटायु पार्क देख सकते हैं। इसके लिए आपको हेलीकॉप्टर की सवारी बुक करनी होगी। मैंने इसके टिकट प्राइस नीचे दिया है।

इस हेलिकॉप्टर राइड में आपको हेलिकॉप्टर से पूरा जटायु पार्क आसमान से दिखाया जाएगा. जो वाकई मजेदार होता है। और वैसे भी, जटायु की मूर्ति को आसमान से देखना ही बेहतर होता है। यह हेलीकॉप्टर राइड 10 मिनट तक चलती है। इसके बाद आप वापस जमीन पर आ जायेंगे।

जटायु पार्क का इतिहास

भारतीय महाकाव्य के अनुसार त्रेता युग में रामायण काल के दौरान जटायु नाम का गिद्ध हुआ करता था। वह भी भगवान राम था भक्त था। जब रावण ने सीता का अपहरण किया और उन्हें उड़ा कर श्रीलंका ले जा रहा था, तो जटायु ने उन्हें देखा। फिर जटायु ने रावण का पीछा करते हुए वह केरल पहुंच गया। फिर उन्होंने सीता को बचाने के लिए रावण पर हमला किया।

तब रावण ने अपनी तलवार से जटायु का एक पंख काट दिया। और जटायु सीधे आसमान से जमीन पर गिर पड़े। लेकिन उन्होंने भगवान राम के आने का इंतजार किया। जब भगवान राम आए, तो उन्होंने भगवान राम को सीता के अपहरण के बारे में बताया, और फिर जटायु ने अपना दम तोड़ दिया। आप इस जटायु की पूरी कहानी भारतीय महाग्रंथ रामायण में पढ़ सकते हैं।

माना जाता है कि जटायु दुनिया का पहला पक्षी है जिसने महिलाओं की सुरक्षा के लिए अपनी जान गंवाई। इस जटायु प्रतिमा के पास ही एक बहुत पुराना भगवान राम का मंदिर भी है। यहां आपको भगवान राम के पैरों के निशान भी देखने को मिलेंगे।

Jatayu Park Kerala - History and Guide
Ravan, Sita and Jatayu Scene - जटायु पार्क, केरल

जटायु पार्क कैसे पहुंचें ?

कोल्लम केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से 46 किमी दूर है। और जटायु पार्क (जटायु अर्थ सेंटर) कोल्लम के मुख्य शहर से 28 किमी दूर है। अगर आप तिरुवनंतपुरम में हैं तो आप बस या टैक्सी से कोल्लम पहुंच सकते हैं। और फिर कोल्लम से जटायु पार्क (जटायु अर्थ सेंटर) पहुंचने के लिए आपको टैक्सी और बस सेवा भी मिलेगी।
  • नजदीकी बस स्टॉप: किलिमानूरी जट्टायु पार्क का सबसे नजदीकी बस स्टॉप है। यह सिर्फ 12.5 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी रेलवे स्टेशन: कोट्टारकरा जट्टायु पार्क का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है। यह सिर्फ 22 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी हवाई अड्डा: त्रिवेंद्रम जट्टायु पार्क का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है। यह सिर्फ 45 किमी की दूरी पर है।

Jatayu Park Kerala - History and Guide
Thiruvananthapuram Airport - जटायु पार्क, केरल

जटायु पार्क टाइमिंग

जटायु पार्क का समय सुबह 9:30 से शाम 5:30 बजे तक है। यानी आपके पास एडवेंचर का लुत्फ उठाने के लिए 8 घंटे का समय होगा। लेकिन आप मंगलवार को नहीं जा सकते क्योंकि मंगलवार को जटायु पार्क बंद रहता है।

आपको बता दें कि जटायु पार्क में चार अलग-अलग पहाड़ हैं, जिनमें से एक पर जटायु की मूर्ति है और दूसरे पहाड़ में एडवेंचर के लिए खेल और गतिविधियां कराई जाती हैं। शेष दो पहाड़ हमेशा बंद रहते हैं। क्योंकि वहां आपको कुछ नहीं मिलेगा।

जटायु पार्क टिकट प्राइस

जटायु पार्क में जटायु की मूर्ति के पास जाने के लिए आपको जटायु अर्थ सेंटर से केबल कार से जाना होगा। आप इस पार्क के लिए ऑनलाइन टिकट भी बुक कर सकते हैं। टिकट की कीमतें विभिन्न प्रकार की होती हैं जिनका मैंने नीचे उल्लेख किया है।
Ticket Price
एंट्री टिकट 400
एडवेंचर और गेम सेंटर 500
हेलीकॉप्टर राइड 2400

जटायु पार्क के पास सर्वश्रेष्ठ होटल

HotelsContact
Hotel Dona Castle ⭐⭐⭐09846002153
Global Backwaters09496611622
Hotel Regant Lake Palace ⭐⭐⭐⭐09605082288
Spot On 68111 Jeena Motels01246201164
Grand E Muscat09605785334

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. जटायु पार्क कहाँ स्थित है ?
जटायु पार्क केरल के कोल्लम जिले में स्थित है। जटायु पार्क का पूरा पता है: जटायु जंक्शन, जटायु नेचर पार्क रोड, चदयामंगलम, केरल 691534, भारत है।

Q. जटायु पार्क में कितनी एक्टिविटीज कर सकते हैं ?
आप कई प्रकार की एक्टिविटीज का आनंद ले सकते हैं। आप ट्रैकिंग, रॉक क्लाइम्बिंग, कैंपिंग, तीरंदाजी और शूटिंग जैसे PUBG, ट्रैकिंग और अन्य खेल भी खेल सकते हैं।

Q. जटायु की प्रतिमा की ऊंचाई कितनी है ?
जटायु की मूर्ति 200 फीट चौड़ी और 150 फीट लंबी और 70 फीट ऊंची है।

Q. जटायु कौन थे ?
जटायु एक गिद्ध था। रामायण के युग में जब रावण ने सीता का हरण किया था तब जटायु सीता को बचाना चाहते थे। लेकिन रावण ने जटायु को मार डाला।

Q. जटायु पार्क किसके लिए अच्छा है ?
जटायु पार्क बच्चों, जवानों और मनोरनजन एक्टिविटी प्रेमियों के लिए बहुत अच्छा है। यह मूर्ति दुनिया की सबसे बड़ी पक्षी मूर्ति है, आपको एक बार जरूर देखना चाहिए।

एक टिप्पणी भेजें