केदारनाथ मंदिर - कब पहुंचे, कैसे पहुंचे, टिकट प्राइस, खर्चा, सम्पूर्ण यात्रा

क्या आप केदारनाथ मंदिर घूमना करना चाहते हैं? जानिए केदारनाथ मंदिर कब जाएं, कैसे पहुंचे, आस पास की खूबसूरत जगहें, टिकट प्राइस, कुल खर्चा और इतिहास
केदारनाथ भारत के चार प्रमुख मंदिरों में से एक है। केदारनाथ के दर्शन के लिए यहां हर साल लाखों श्रद्धालु आते हैं। केदारनाथ आना लगभग सभी हिंदुओं का सपना होता है। खूबसूरत बर्फीली पहाड़ियों के बीच स्थित होने के कारण इस मंदिर में बहुत कम लोग आ पाते हैं।

अगर आप भी केदारनाथ जाना चाहते हैं तो आपको इसके बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। आज मैं आपको केदारनाथ के बारे में पूरी जानकारी दूंगा। ताकि आपको पता चले कि केदारनाथ कैसे पहुंचे? कहाँ रहना है और कम से कम खर्चा कितना होगा ? आप इस जानकारी को English में भी पढ़ सकते है।

Peak Season: जून
Off-Season: जनवरी
Famous for: भारत का धाम
Rating: ⭐⭐⭐⭐
Price: ₹10,000+
Duration: 11 घंटे

Kedarnath Travel Guide
केदारनाथ मंदिर, उत्तराखंड

केदारनाथ मंदिर - सम्पूर्ण यात्रा

केदारनाथ मंदिर साल में सिर्फ 6 महीने ही खुला रहता है। यह केवल गर्मी के मौसम में मई से अक्टूबर तक खुलता है। बाद में सर्दियों में भारी बर्फबारी के कारण इसे बंद कर दिया जाता है। केदारनाथ मंदिर चारों तरफ से ऊंचे पहाड़ों से घिरा हुआ है। इन पहाड़ों की ऊंचाई 22 हजार फीट से भी ज्यादा है। साथ ही यहां पांच नदियों का संगम भी है। इनमें स्वर्णगौरी, मंदाकिनी, मधुगंगा, चिरगंगा और सरस्वती नदी शामिल हैं।

केदारनाथ मंदिर 85 फीट ऊंचा और 187 फीट चौड़ा है। इसकी दीवारें 12 फीट चौड़ी हैं। इस मंदिर के पत्थर एक इंटरलॉकिंग सिस्टम से जुड़े हुए हैं। यह मंदिर समुन्द्र तल से 3462 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। मंदिर के केंद्र में त्रिकोण पत्थर को ज्योतिर्लिंग के रूप में पूजा जाता है। मंदिर के अंदर आप द्रौपदी सहित पांच पांडवों की मूर्ति भी देख सकते हैं।

Kedarnath Travel Guide
केदारनाथ मंदिर, उत्तराखंड

केदारनाथ मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। यह मंदिर भारत के पंच केदारों में से एक है। जिसमें केदारनाथ, रुद्रनाथ, कल्पेश्वर, मध्येश्वर और तुंगनाथ शामिल हैं।

केदारनाथ मंदिर के आस पास की जगहें

1. बैरव मंदिर

यहां एक और लोकप्रिय मंदिर है। यह भैरव मंदिर केदारनाथ मंदिर से 500 मीटर की दूरी पर है। भैरव मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको ट्रेकिंग करनी होगी। खूबसूरत नजारों को देखते हुए आप भैरव मंदिर के दर्शन कर सकते हैं।

2. वासुकी ताल

वासुकी ताल बर्फीली पहाड़ियों से घिरी एक खूबसूरत झील है। जो केदारनाथ मंदिर से 7 किमी दूर है। अगर आप फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करना चाहते हैं तो वासुकी ताल आपके लिए बहुत अच्छा रहेगा।

Gandhi Sarovar at Kedarnath
गांधी सरोवर - केदारनाथ मंदिर, उत्तराखंड

3. गांधी सरोवर

गांधी सरोवर भी एक बहुत ही खूबसूरत तालाब है। यह तालाब हरे भरे पहाड़ों से घिरा हुआ है। यह तालाब केदारनाथ मंदिर से 3 किमी की दूरी पर है। यहाँ भी आप फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कर सकते है।

केदारनाथ मंदिर का इतिहास

केदारनाथ मंदिर की कई कहानियां सामने आती हैं। ये मंदिर हजारों साल पुराने माने जाते हैं। कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण पांडवों के वंशज जन्मजय ने करवाया था। वहीं यह भी कहा जाता है कि दसवीं शताब्दी में इस मंदिर का निर्माण मालवा के राजा भोज ने ग्वालियर के राजा भोज के आदेश पर करवाया था।
एक और कहानी यह भी है कि जगतगुरु आदि शंकराचार्य ने आठवीं शताब्दी में इस मंदिर का निर्माण कराया था। इसी स्थान पर 32 वर्ष के आदि शंकराचार्य की मृत्यु हुई थी। केदारनाथ मंदिर के पीछे उनकी समाधि देखी जा सकती है। केदारनाथ मंदिर में स्थित ज्योतिर्लिंग की दो प्रसिद्ध कथाएं हैं।

केदारनाथ मंदिर की पहली कहानी

पहली कथा के अनुसार भगवान विष्णु के दो अवतार नर और नारायण जो केदारनाथ के समीप पहाड़ी पर तपस्या कर रहे थे। उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव प्रकट हुए। नर और नारायण के वचन के अनुसार, भगवान शिव ने हमेशा के लिए ज्योतिर्लिंग के रूप में इस स्थान पर रहने का फैसला किया।

oldest pic of kedarnath
केदारनाथ मंदिर की पुरानी तस्वीर - केदारनाथ मंदिर, उत्तराखंड

केदारनाथ मंदिर की दूसरी कहानी

दूसरी कथा के अनुसार महाभारत के युद्ध के बाद पांडवों को परिवार के सदस्यों की हत्या का पाप लगा। उनके इस पाप से भगवान शिव बहुत क्रोधित हुए। पांडव भगवान शिव से क्षमा मांगने काशी गए। लेकिन वहां उन्हें भगवान शिव नहीं मिले। भगवान शिव पांडवों से मिलना नहीं चाहते थे। और इसलिए वे केदारनाथ के पहाड़ियों में छुप गए। पांडव भी उनके पीछे पीछे केदारनाथ चले गए।

तब भगवान शिव ने एक बैल का रूप धारण किया और बैलों के झुंड में शामिल हो गए। पांडवों को भगवान शिव द्वारा नए रूप के बारे में पता चला। तब भीम ने अपना विशाल रूप धारण किया और अपना बड़ा पैर पहाड़ों पर रख दिया। भीम का विशाल रूप देखकर सभी बैल पैरों के नीचे से भाग खड़े हुए। लेकिन भगवान शिव ऐसा नहीं कर सके। फिर भी भीम ने पूरी ताकत से बैल को पकड़ लिया। लेकिन वह बैल धरती में समाने लगा।

अंत में भीम ने बैल के कूबड़ को जमीन में धसने से रोक दिया। और आज बैल का कूबड़, जो थोड़ा सा जमीन से निकला है, पत्थर बन गया है। यह पत्थर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। और आज इसी ज्योतिर्लिंग की पूजा की जाती है।

जब भगवान शिव एक बैल के रूप में पृथ्वी में समा रहे थे, तब उनके शरीर का एक हिस्सा काठमांडू में प्रकट हुआ। जहां आज पशुपतिनाथ का मंदिर है। इसी प्रकार, तुंगनाथ में उनकी भुजाएँ, दुद्रनाथ में मुख, मध्येश्वर में नाभि और कल्पेश्वर में बाल दिखाई दिए।

इस तरह भगवान शिव के कुल पांच ज्योतिर्लिंग बने। और इन पांच स्थानों पर भगवान शिव के मंदिरों का निर्माण किया गया।

केदारनाथ मंदिर कैसे पहुंचे ?

केदारनाथ मंदिर तक पहुंचने के कई रास्ते हैं। सबसे आसान तरीका है कि आप सबसे पहले हरिद्वार या देहरादून आएं। इसके बाद आपको हरिद्वार या देहरादून से सोनप्रयाग पहुंचना होगा। सोनप्रयाग से आप केदारनाथ मंदिर तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

camps in kedarnath
कैम्प्स - केदारनाथ मंदिर, उत्तराखंड (Source)

केदारनाथ मंदिर में कहाँ ठहरें?

केदारनाथ मंदिर पहुंचने से पहले आपको सोनप्रयाग या गौरीकुंड में रुकना होगा। इन दोनों जगहों के होटल बहुत महंगे हैं। जिसकी कीमत 3 हजार प्रतिदिन से अधिक है। पीक सीजन में इनकी कीमत भी दोगुनी हो जाती है। इसके अलावा यहां कई हॉल, डॉरमेट्री और कैंप भी उपलब्ध हैं। जिसमें आप कम से कम कीमत में रात बिता सकते हैं।

केदारनाथ में ठहरने का सबसे अच्छा साधन जीएमवीएन का टेंट है। ये टेंट उत्तराखंड सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए हैं। इसके लिए आप रोजाना 400 रुपये का भुगतान कर सकते हैं। जिसमें खाना शामिल नहीं है। अगर हम खाने की बात करें तो यहां खाना बहुत महंगा है।

केदारनाथ मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय

केदारनाथ मंदिर गर्मियों के महीने में खुलता है। केदारनाथ मंदिर के दर्शन आप अप्रैल से नवंबर के महीनों में कर सकते हैं। शुरुआती दिनों में यानि अप्रैल से मई के महीनों में केदारनाथ मंदिर में काफी भीड़ होती है। जिसमें पर्यटकों की संख्या काफी ज्यादा हो जाती है। ऐसे में होटल और खाना भी काफी महंगा हो जाता है।

अक्टूबर से नवंबर के महीने में जाएंगे तो भीड़ कम मिलेगी और होटल, खाना और किराए का खर्च भी कम होगा। लेकिन इस महीने का मौसम काफी ठंडा हो जाता है इसलिए आप अपने साथ गर्म कपड़े जरूर लेकर जाएं।

आपको जुलाई और सितंबर के महीनों में नहीं जाना चाहिए। क्योंकि इन दिनों भारी बारिश के कारण भूस्खलन हो सकते है। जो काफी खतरनाक हो जाता है। ऐसे में सभी रास्ते बंद कर दिए जाते हैं। पीक सीजन में मंदिर के अंदर जाने के लिए आपको 2 घंटे से ज्यादा लाइन में खड़ा होना पड़ेगा। और ऑफ-सीजन, आपको 1 घंटे से भी कम लंबी लाइन में खड़ा होना पड़ता है।

मंदिर के कपाट सुबह 6 बजे से शाम 5 बजे तक खुले रहते हैं। केदारनाथ मंदिर में दो बार आरती की जाती है। पहली आरती सुबह छह बजे और दूसरी आरती शाम छह बजे की जाती है। दोनों आरती के दौरान लोगों को मंदिर के अंदर जाने की अनुमति नहीं होती है।

Kedarnath Travel Guide
केदारनाथ मंदिर, उत्तराखंड (Credit)

केदारनाथ मंदिर जाने में कितना खर्चा आएगा ?

यात्रा के हिसाब से आपको होटल में तीन जगहों पर रुकना होगा। इसमें आपका भोजन भी शामिल होगा। अगर आप बस से अपनी यात्रा शुरू करते हैं और बाकी की यात्रा ट्रैकिंग से पूरी करनी होगी, तो आपको कुल 10 हजार रुपये खर्च करने होंगे। यह खर्चा दो लोगों के अनुसार तय की गई है।

अगर आप टैक्सी से यात्रा करना चाहते हैं। और साथ ही अगर आप हेलीकॉप्टर की सवारी करना चाहते हैं, तो इसकी कीमत 10 हजार ज्यादा होगी। अगर आप सिंगल हैं या दो लोग हैं। आप हरिद्वार से बाइक किराए पर भी ले सकते हैं। इससे आपके खर्चे कम होंगे। बाइक का किराया एक दिन के लिए 1000 रुपये है।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. केदारनाथ मंदिर कहाँ स्थित है ?
केदारनाथ मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है।

Q. केदारनाथ मंदिर किसने बनवाया था ?
यह स्पष्ट नहीं है कि केदारनाथ मंदिर किसने बनवाया था। इतिहास में कहीं न कहीं ऐसा कहा जाता है कि मालवा के राजा भोज ने इस मंदिर का निर्माण किया था। कहीं और लिखा है कि आदि शंकराचार्य ने इसे बनाया है।

Q. क्या केदारनाथ मंदिर में फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की अनुमति है ?
हां, आप केदारनाथ मंदिर के बाहर आसानी से फोटो और वीडियो ले सकते हैं। लेकिन आप केदारनाथ मंदिर के अंदर की तस्वीरें और वीडियो नहीं ले कर सकते हैं।

Q. क्या केदारनाथ मंदिर में बैग ले जाने की अनुमति है ?
हां, आप अपना बैग अपने साथ ला सकते हैं। लेकिन बेहतर होगा कि आप अपना सामान होटल में ही रखें।

Q. क्या मंदिर बंद होने की तिथि पर पर्यटक केदारनाथ मंदिर जा सकते हैं ?
हां, पर्यटक केदारनाथ जा सकते हैं लेकिन पर्यटक मंदिर के अंदर नहीं जा सकते।

एक टिप्पणी भेजें