महाबोधि मंदिर, बिहार - कब पहुंचे, कैसे पहुंचे, कितना खर्चा, संपूर्ण यात्रा

क्या आप महाबोधि मंदिर घूमना चाहते हैं ? आपको पता होना चाहिए कि महाबोधि मंदिर कैसे पहुंचे, सही समय क्या है, आस-पास की जगहें, कितना खर्चा और इसका इतिहास
बोधगया को बिहार का सबसे पुराना और सबसे पवित्र स्थान माना जाता है। 11वीं शताब्दी ई.पू. में बौद्ध धर्म के गुरु गौतम बुद्ध को यहाँ ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। आज इस जगह पर रोजाना हजारों लोग आते हैं। और उनमें से ज्यादातर विदेशी लोग होते हैं। बोधगया एक बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इसमें आपको महाबोधि मंदिर के साथ-साथ अन्य देशों में और भी धार्मिक स्थल देखने को मिलेंगे।

बोधगया में सबसे पवित्र चीज महाबोधि मंदिर में स्थित पीपल का पेड़ है जिसके नीचे महात्मा गौतम बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था। उनके याद में बनाई गई गौतम बुद्ध की 80 फीट ऊंची विशाल प्रतिमा भी पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। यह महाबोधि मंदिर शांति का प्रतीक है। क्योंकि महात्मा गौतम बुद्ध ने यहीं से पूरी दुनिया में शांति का प्रसार किया था। और आज भी देश-विदेश में इनकी पूजा की जाती है। आइए आपको महाबोधि मंदिर की पूरी जानकारी देते हैं। आप इस जानकारी को English में भी पढ़ सकते है।

पीक सीजन: जुलाई
ऑफ़ सीजन: सितम्बर
लोकप्रियता: बौद्ध धर्म की शुरुआत
रेटिंग: ⭐⭐⭐⭐
टिकट प्राइस: फ्री
समय: 24x7

Bodh Gaya Temple - Tourist Guide Hotels and More
महाबोधि मंदिर, बिहार

महाबोधि मंदिर, बिहार - सम्पूर्ण यात्रा

महाबोधि मंदिर बिहार के गया रेलवे स्टेशन से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जो बौद्ध धर्म का सबसे बड़ा तीर्थ स्थल है। यहां दुनिया भर से बड़ी संख्या में लोग घूमने आते हैं। बौद्ध धर्म का पालन करने वाले भक्तों की हमेशा भीड़ रहती है। उनमें से ज्यादातर नेपाली, चीनी, तिब्बती, जापानी आदि हैं।

लोग महाबोधि मंदिरों के पीछे पीपल के पेड़ पर धागा बांधते हैं और अपनी मनोकामना पूरी करने की कामना करते हैं। क्योंकि इसी पीपल के पेड़ के नीचे गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। इसीलिए इस पेड़ को बहुत पवित्र माना जाता है।
पार्क में ध्यान करते हुए महाबोधि मंदिर के बाहर 80 फीट ऊंची महात्मा गौतम बुद्ध की विशाल प्रतिमा है। जैसा कि आप ऊपर की तस्वीर में देख सकते हैं। और मंदिर के अंदर महात्मा गौतम बुद्ध की सोई हुई मूर्ति है। जैसा कि आप नीचे चित्र में देख सकते हैं।

Bodh Gaya Temple - Tourist Guide Hotels and More
सोए हुए बुद्ध की प्रतिमा - महाबोधि मंदिर, बिहार

शांति बनाए रखने के लिए, गौतम बुद्ध ने अपने द्वारा प्राप्त ज्ञान को पूरी दुनिया में फैलाया। जिसमें उन्होंने इन चार बातों पर ज्यादा जोर दिया.

महात्मा गौतम बुद्ध द्वारा दिए गए चार सत्य हैं।
  1. दुख क्या हैं?
  2. दु:ख कैसे उत्पन्न होते हैं?
  3. दुखों का निवारण क्या है?
  4. दुखों का अंत कैसे होता है?
      शांति प्रार्थना नाटक कालचक्र यहां का सबसे लोकप्रिय त्योहार है। दुनिया भर से लोग अपने मन की शांति के लिए इस त्यौहार में हिस्सा लेने आते हैं। इन दिनों यहां पर्यटकों की भारी भीड़ होती है। यह त्यौहार हर साल 3 से 14 जुलाई तक मनाया जाता है।

      Bodh Gaya Temple - Tourist Guide Hotels and More
      महाबोधि मंदिर, बिहार

      बौद्ध गया में महाबोधि मंदिर के आस पास आपको बौद्ध धर्म को मानने वाले सभी देशों के धार्मिक स्थल देखने को मिलेंगे। इन सभी जगहों के नाम नीचे दी गई है। आपको यहाँ भी जरूर जाना चाहिए।

      बोधगया में सभी मंदिरों की सूची

      • तिब्बती शरणार्थी बाजार
      • थाई मठ
      • रॉयल भूटान मठ
      • ब्रह्मयोनी मंदिर
      • कंकामना
      • चीनी मंदिर
      • इंडोसन निप्पॉन जापानी मंदिर
      • विष्णुपद मंदिर
      • वियतनामी मंदिर
      • डुंगेश्वरी हिल्स
      • बर्मी विहार मठ
      • सुजाता मंदिर
      • दाजोक्यो बौद्ध मंदिर
      • अनिमेष लोचना चैतन्य तीर्थ
      Bodh Gaya Temple - Tourist Guide Hotels and More
      महाबोधि मंदिर के आस पास के मठ

      भारत में बौद्ध धर्म के चार प्रमुख मंदिर हैं। बोधगया, सारनाथ, कुशीनगर, श्रावस्त। वैसे बौद्ध धर्म के बहुत सारे महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है। इन सभी जगहों की लिस्ट नीचे दी हुई है।

      भारत में कितने बौद्ध मंदिर है ?

      1. बोधगया (बिहार)
      2. सारनाथ (उत्तर प्रदेश)
      3. कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
      4. श्रावस्ती (उत्तर प्रदेश)
      5. संकश्य या संकस्सा (उत्तर प्रदेश)
      6. राजगीर नालंदा (बिहार)
      7. वैशाली (बिहार)
      8. लुंबिनी (नेपाल)
      9. प्रमुख मठ (हिमाचल प्रदेश)
      10. दलाई लामा मंदिर परिसर, धर्मशाला (हिमाचल प्रदेश)
      11. तवांग मठ (अरुणाचल प्रदेश)
      12. रुमटेक मठ (सिक्किम)
      13. नामद्रोलिंग मठ (कर्नाटक)
      14. ठिकसे मठ (जम्मू और कश्मीर)
      15. घूम मठ (पश्चिम बंगाल)
      16. अजंता की गुफाएं (महाराष्ट्र)
      17. बोज्जन्नाकोंडा (आंध्र प्रदेश)
      18. कार्ला और भाजा गुफाएं (महाराष्ट्र)

      महाबोधि मंदिर का इतिहास

      महाबोधि मंदिर का निर्माण सम्राट अशोक ने महात्मा गौतम बुद्ध की याद में करवाया था। बाद में कनिष्क ने इसे और बढ़ाया और सजाया।

      सन 1205 में खिलजी ने इस मंदिर को बर्बाद कर दिया था। और पीपल के पेड़ को भी काट दिया। जिसके तहत गौतम बुद्ध को ज्ञान मिला था। लेकिन राजा कनिष्क ने फिर से इस पेड़ को उगा दिया। यह पेड़ चौथी पीढ़ी का है। और चौथे पीढ़ी का यह पेड़ आज मार्च 2022 में, पेड़ 139 साल पुराना हो गया है।

      Bodh Gaya Temple - Tourist Guide Hotels and More
      पीपल का पेड़ - महाबोधि मंदिर, बिहार

      कई लोगों ने इस पेड़ को जड़ से कटवा दिया था, लेकिन यह पेड़ बार-बार अपने आप उग आया। ध्यान से देखेंगे तो आपको पेड़ के पास गौतमबुद्ध के पदचिन्ह दिखाई देंगे। महात्मा गौतम बुद्ध एक महान दार्शनिक, समाज सुधारक, धार्मिक गुरु, बौद्ध धर्म के संस्थापक और एक ऐसे महान व्यक्ति थे जिन्होंने अपने विचारों से दुनिया को नई राह दिखाई।

      गौतम बुद्ध कौन थे ?

      11वीं शताब्दी ई.पू. गौतम बुद्ध का जन्म 8 अप्रैल को नेपाल के लुंबिनी में कपिल वास्तु के पास एक राजा शुद्धोदन के परिवार में हुआ था। गौतम बुद्ध को सिद्धार्थ के नाम से भी जाना जाता है, यह नाम उनकी दूसरी माता ने रखा था। गौतम बुद्ध का विवाह यशोधरा से हुआ था, जिनको बाद में एक पुत्र भी हुआ था। लेकिन बाद में गौतम बुद्ध ने ज्ञान प्राप्त करने के लिए अपने परिवार को त्याग दिया।

      गौतम बुद्ध अकेले पैदल चल कर बिहार में गया जिले के जंगल में पहुंचे। यहां एक बड़े पीपल के पेड़ के नीचे 5 साल की कठोर ध्यान के बाद उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई। इस ज्ञान में उन्हें आत्मा और संसार के ज्ञान के साथ-साथ कुछ अलौकिक शक्तियाँ भी मिलीं।

      स्थानीय लोगों ने इस ज्ञान को बौद्ध का नाम दिया। और तभी से इस जगह को बोधगया के नाम से जाना जाता है। और इस तरह वे गौतम से गौतम बुद्ध बने। वो पीपल का पेड़ आज भी वही है। जैसा कि आप ऊपर चित्र में देख सकते हैं। मुगल शासनकाल में इस पेड़ को 6 बार काटा गया था। लेकिन यह पेड़ फिर उग आया। गौतम बुद्ध को छाया देने वाले इस पेड़ की एक शाखा आज भी गया के संग्रहालय में रखी हुई है।

      Story of Ungli Maar Gaaku

      आपने ऊँगली मार डाकू के बारे में तो सुना ही होगा। अगर नहीं सुना है तो आज बता देता हूं। बुद्ध के ज्ञान प्राप्ति के समय उसी जंगल में एक डांकू रह रहा था। वह डांकू लोगों को मार कर उनकी उंगलियों काट लेता और उनका माला बना कर पहनता था। डांकू ने कई बार गौतम बुद्ध को भी मारने की भी कोशिश की। लेकिन वह हमेशा असफल रहा।

      तब गौतम बुद्ध ने डांकू को सत्य का मार्ग दिखाया और उन्हें झूठ, अहंकार और हिंसा से हमेशा के लिए मुक्त कर दिया। तब गौतम बुद्ध ने जगह-जगह जाकर बौद्ध धर्म का प्रचार किया। ऐसे में गौतम बुद्ध भारत, नेपाल, श्रीलंका, तिब्बत, चीन, जापान, यूरोप गए। और हर जगह शांतिपूर्ण बौद्ध धर्म का प्रचार किया।

      बोधगया मंदिर कैसे पहुंचे ?

      वैसे बोधगया बिहार के गया जिले में स्थित है। हवाई जहाज से आना हो या ट्रेन से, आपको सबसे पहले गया आना होगा। क्योंकि गया में एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन दोनों हैं।



      • नजदीकी बस स्टॉप: बोधगया का सबसे नजदीकी बस स्टॉप बालूखंडा है। यह सिर्फ 48.1 किमी की दूरी पर है।
      • नजदीकी रेलवे स्टेशन: गया बोधगया का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है। यह सिर्फ 12 किमी की दूरी पर है।
      • नजदीकी हवाई अड्डा: गया हवाई अड्डा बोधगया का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है। यह सिर्फ 9.4 किमी की दूरी पर है।

      Bodh Gaya Temple - Tourist Guide Hotels and More
      महाबोधि मंदिर, बिहार

      महाबोधि मंदिर के पास के होटल

      महाबोधि मंदिर के आस पास यात्रियों के ठहरने की अच्छी सुविधा है। यहां आपको थोड़े महंगे लेकिन अच्छे होटल देखने को मिलेंगे। आपको बता दें कि बोधगया एक पर्यटन स्थल है। तो जाहिर सी बात है कि यहां होटलों और रिसॉर्ट्स की कोई कमी नहीं है।
      HotelsContact
      The Royal Residency ⭐⭐⭐07042424242
      Hotel Sujata ⭐⭐⭐09504440844
      Oaks Bodh Gaya ⭐⭐⭐06312200019
      Maya Heritage ⭐⭐⭐06312200071
      Hotel Seven Inn ⭐⭐⭐07700007775

      ये सभी होटल मुझे बहुत अच्छे लगते थे। इसलिए, मैं इन होटलों का सुझाव दे रहा हूं। अपनी यात्रा के बारे में नीचे कमेंट सेक्शन में लिखें। हम आपके सुखद यात्रा की कामना करते हैं।

      अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

      Q. महाबोधि मंदिर किसने बनवाया था ?
      महाबोधि मंदिर का निर्माण राजा अशोक ने तीसरी शताब्दी में करवाया था। लेकिन इस मंदिर का पुनः निर्माण 5वीं शताब्दी में हुआ था।

      Q. महाबोधि मंदिर का पुराना नाम क्या है ?
      बोधगया मंदिर का पुराना नाम बोधिमंड-विहार (पाली) है।

      Q. महाबोधि मंदिर में स्थित पीपल क्यों प्रसिद्ध है ?
      महाबोधि मंदिर में एक विशाल पीपल का पेड़ है। इस पेड़ के नीचे गौतम सिद्धार्थ ने तपस्या कर ज्ञान प्राप्त किये थे।

      Q. क्या महाबोधि मंदिर के पास ठहरने के लिए कोई होटल है ?
      जी हां, बोधगया में ठहरने के लिए कई तरह के होटल हैं। सभी बेहतरीन होटल विवरण ऊपर उल्लिखित हैं।

      Q. महाबोधि मंदिर कहाँ स्थित है ?
      महाबोधि मंदिर दक्षिण बिहार के गया जिले में स्थित है। इसका पूरा पता है: महाबोधि मंदिर, बौद्ध गया, गया, बिहार 824231, भारत

      एक टिप्पणी भेजें