कमल मंदिर, दिल्ली - कैसे पहुंचे, टिकट प्राइस, सही समय, सम्पूर्ण यात्रा

क्या आप कमल मंदिर घूमना चाहते हैं? आपको होना चाहिए कि कमल मंदिर कैसे पहुंचा जाए, टिकट प्राइस, सही समय, इसका इतिहास और सम्पूर्ण यात्रा
कमल मंदिर दिल्ली का एक ऐसा मंदिर है जो अपने डिजाइन के कारण काफी लोकप्रिय है। यहां रोजाना सैकड़ों की संख्या में पर्यटक घूमने आते हैं। शहर की भीड़ से दूर एक शांत वातावरण में निर्मित, यह कमल मंदिर आपको एक अद्भुत अनुभव कराएगा। आज मैं आपको कमल मंदिर के बारे में सारी बातें बताऊंगा। कमल मंदिर कैसे पहुंचे? कमल मंदिर टिकट की कीमत, और वहां घूमने का सही समय। यह सारी जानकारी आपको यहां मिल जाएगी। कमल मंदिर के इतिहास के बारे में भी आप यहाँ जानेंगे।

दिल्ली के बहापुर में स्थित कमल मंदिर दुनिया भर से पर्यटकों को आकर्षित करता है। आधुनिक समय का मंदिर होने के बावजूद यह कमल मंदिर दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर जितना ही प्रसिद्ध है। सिडनी के ओपेरा हाउस से मिलता-जुलता यह भव्य मंदिर दिन-ब-दिन लोकप्रिय होता जा रहा है।

पीक सीजन: जनवरी
ऑफ़ सीजन: जून
लोकप्रियता: कमल के आकार का मंदिर
रेटिंग: ⭐⭐⭐
टिकट प्राइस: फ्री
समय: 8 AM - 6 PM

Lotus Temple (Bahá'í Temple) Travel Guide
कमल मंदिर, दिल्ली

लोटस टेम्पल, दिल्ली - सम्पूर्ण यात्रा

कमल मंदिर को बहाई मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। कमल मंदिर वास्तव में एक चर्च है, लेकिन लोग इसे मंदिर कहते हैं। यह मंदिर पूरी तरह से सफेद संगमरमर से बना है। कमल मंदिर का नाम इसके कमल जैसे डिजाइन के कारण पड़ा है, जो एक दम कमल के फूल जैसा दिखता है।

यह मंदिर 35 मीटर ऊंचा है और इसके आधार का व्यास 70 मीटर है। जिसमें कुल 27 पंखुड़ियां हैं, जो 9 के समूह में हैं। इसमें गेट भी कुल 9 हैं, और कमल मंदिर के बाहर छोटा तालाब भी 9 है। इस मंदिर की खास बात यह है कि किसी भी जाति के लोग , और किसी भी धर्म के लोग बिना किसी भेदभाव के इस मंदिर में आ सकते हैं। क्योंकि इस मंदिर का निर्माण सिर्फ इसलिए हुआ क्योंकि यहां सभी धर्मों के लोग एक साथ बैठते थे।

Lotus Temple (Bahá'í Temple) Travel Guide
कमल मंदिर, दिल्ली

इस मंदिर में कुल 2500 लोग एक साथ बैठ सकते हैं। जैसा कि मैंने आपको बताया, यह कमल मंदिर एक चर्च है। तो इसमें आप शांत वातावरण में बैठकर अपने भगवान से प्रार्थना कर सकते हैं, और आप यहां ध्यान भी कर सकते हैं। कमल मंदिर शाम होते ही रोशनी से जगमगाने लगता है। जिससे यह सीन काफी मनमोहक लगता है। दूसरे शब्दों में कहें तो कमल मंदिर दिन के मुकाबले रात में 10 गुना ज्यादा खूबसूरत दिखता है।

लोटस टेम्पल में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह

सूचना केंद्र

यह सूचना केंद्र कमल मंदिर के मुख्य द्वार पर है। कमल मंदिर के परिसर में प्रवेश करते ही आपको सूचना केंद्र दिखाई देगा। यहां आपको कमल मंदिर के बारे में सब कुछ पता चल जाएगा। कमल का मंदिर कब बनाया गया था, कैसे बनाया गया था और इसे किसने बनवाया था ? यह सारी जानकारी आपको सूचना केंद्र में मिल जाएगी। साथ ही यहां कमल मंदिर का एक छोटा सा मॉडल भी देखने को मिलेगा। जिससे आप कमल मंदिर की बनावट को अच्छे से देख पाएंगे।

Lotus Temple Green Field - Lotus Temple (Bahá'í Temple) Travel Guide
खूबसूरत मैदान - कमल मंदिर, दिल्ली

खूबसूरत मैदान

कमल मंदिर के परिसर में हरे भरे मैदान आपको बहुत पसंद आएंगे। यहां बहुत शांति है, इसलिए यहां आप अपने परिवार के साथ पिकनिक मनाना बहुत अच्छा लगता हैं। यहां कई तरह के पेड़-पौधे हैं, जिसके छाएं आपको काफी आराम देंगे। पेड़ों की खूबसूरत डिजाइन आपको मंत्रमुग्ध कर देगी। बच्चों के लिए यह मैदान किसी जन्नत से कम नहीं है।

कमल मंदिर (बहाई मंदिर) का इतिहास

कमल मंदिर का निर्माण 13 नवंबर 1986 को हुआ था। इसका निर्माण ईरानी वास्तुकला फरीबोर्ज़ साहबा ने किया था। फ़रीबोर्ज़ सहाबा ईरान की एक बहुत ही प्रसिद्ध वास्तुकला है जिसे पूरी दुनिया में कई बार सम्मानित किया जा चुके है।

विश्व में कितने कमल मंदिर हैं ?

विश्व में कुल 7 ऐसे कमल मंदिर हैं, जिनमें दिल्ली का सबसे नवीनतम है। बाकि के छः कमल मंदिर उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, अफ्रीका, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया और सामो द्वीप में हैं।

Lotus Temple Green Field - Lotus Temple (Bahá'í Temple) Travel Guide
कमल मंदिर, दिल्ली

इन मंदिरों का निर्माण बहाई धर्म के अनुयायियों द्वारा किया गया था। बहाई धर्म की स्थापना 1863 में ईरान (फारस) में बहा-ए-उल्ला द्वारा की गई थी। जैसा कि मैंने अभी बताया, कमल मंदिर में कुल 9 द्वार हैं। ये 9 द्वार और 9 तालाब दुनिया के 9 प्रमुख धर्मों को एक करने के लिए बने थे। इस मंदिर का निर्माण एकता और शांति बनाए रखने के लिए किया गया था।

लोटस टेंपल टाइमिंग

गर्मी में बहुत ज्यादा गर्मी पड़ती है। इसलिए आप या तो सुबह आएं या शाम को। और अगर आप सर्दियों में आ रहे हैं तो बेहतर होगा।
दिन समय
गर्मियों में 9AM to 7PM
सर्दियों में 9AM to 5:30PM
सोमवार बंद

लॉकडाउन के बाद कमल मंदिर का समय

दिन समय
सुबह 8AM to 10PM
शाम 4PM to 6PM
रविवार बंद

लोटस टेम्पल के नजदीक बेस्ट होटल

कमल मंदिर के पास घूमने के लिए ज्यादा जगह नहीं है। आप केवल 2 घंटे में सब कुछ एक्सप्लोर कर सकते हैं, इसलिए आपको होटल के कमरे में रहने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन अगर आप दिल्ली के बाहर से आ रहे हैं और रात भर रुकना चाहते हैं तो आप इनमें से कोई भी होटल बुक कर सकते हैं। मैं आपको नीचे दी गई लिस्ट में सर्वश्रेष्ठ और कम बजट होटलों की सूची दे रहा हूं। उनकी कीमतें तय नहीं हैं, इसलिए आप उन्हें किसी भी प्रश्न पूछने के लिए कॉल कर सकते हैं।
Hotels Contact
Hotel Conclave Inn ⭐⭐⭐ 01246201616
The Oakland Plaza Hotel ⭐⭐⭐ 07428555990
Oakland Nehru Place 07428555990
Home At F37 ⭐⭐⭐ +91 9667251055
Hotel Itt Inn 09873445801

लोटस टेम्पल टिकट प्राइस 2022

कमल मंदिर की खास बात यह है कि यहां किसी भी तरह का कोई प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाता है। मतलब कमल मंदिर पूरी तरह से फ्री है। आप यहां कहीं भी लंबे समय तक रह सकते हैं। लेकिन फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी के लिए आपको विशेष अनुमति लेनी होगी। इसके लिए आप कमल मंदिर कस्टमर केयर नंबर 011 2444029 पर कॉल कर सकते हैं। कमल मंदिर के पास कई फूड स्टॉल हैं जो काफी महंगे हैं।

Lotus Temple Inside - Lotus Temple Travel Guide
Lotus Temple Inside - कमल मंदिर, दिल्ली

कमल मंदिर कैसे पहुंचे ?

  • नजदीकी बस स्टॉप: ओखला कमल मंदिर का सबसे नजदीकी बस स्टॉप है। यह सिर्फ 6.6 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी मेट्रो स्टेशन: कालकाजी और ओखला कमल मंदिर का सबसे नजदीकी मेट्रो स्टेशन हैं। यह सिर्फ 1 किमी की दूरी पर है
  • नजदीकी रेलवे स्टेशन: निजामुद्दीन कमल मंदिर का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है। यह सिर्फ 4.5 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी हवाई अड्डा: कमल मंदिर का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा IGI हवाई अड्डा है। यह 15.5 किमी की दूरी है।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. कमल मंदिर कहाँ स्थित है ?
कमल मंदिर दिल्ली के बहापुर में स्थित है। इसका पूरा पता है: कमल मंदिर रोड, बहापुर, शंभू दयाल बाग, कालकाजी, नई दिल्ली, दिल्ली 110019, भारत।

Q. कमल मंदिर किसने बनवाया था ?
कमल मंदिर का निर्माण बहाई धर्म के अनुयायियों ने सभी धर्मों को एक साथ लाने के लिए किया था। बहाई धर्म की स्थापना 1863 में ईरान में बहा-ए-उल्लाह ने की थी।

Q. कमल मंदिर घूमने का सही समय क्या है ?
लोटस टेम्पल गर्मियों में सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक खुला रहता है। और सर्दियों में सुबह 9 बजे से शाम 5:30 बजे तक खुला रहता है।

Q. कमल मंदिर क्या है ?
कमल मंदिर वास्तव में एक चर्च है। इसमें लोग शांति से बैठकर भगवान से प्रार्थना कर सकते हैं और साथ में ध्यान भी कर सकते हैं।

Q. दुनिया में कितने कमल मंदिर हैं ?
बहाई धर्म के अनुयायियों ने दुनिया में कुल 7 ऐसे मंदिरों का निर्माण किया है। जिसमें दिल्ली का कमल मंदिर सबसे नया है।

एक टिप्पणी भेजें