स्टैच्यू ऑफ यूनिटी - कैसे पहुंचें, टिकट प्राइस, सही समय, पूरी जानकारी

क्या आप स्टैच्यू ऑफ यूनिटी घूमना चाहते हैं ? आपको पता होना चाहिए कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी कैसे पहुंचे, टिकट प्राइस, सही समय और एक्टिविटी की पूरी जानकारी
सरदार वल्लभभाई पटेल के याद में बनाया गया गुजरात का स्टैच्यू ऑफ यूनिटी दुनिया की सबसे ऊँचा प्रतिमा है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई 182 मीटर है। इससे पहले स्प्रिंग टेंपल बुद्धा, जो चीन में है, दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति थी जिसकी ऊंचाई 153 मीटर थी।

लेकिन स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के सामने यह छोटा साबित हुआ। इस मूर्ति के बनते ही इस दुनिया की सभी बड़ी मूर्तियां छोटी हो गईं और इसका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में सबसे ऊपर पहुंच गया।

पीक सीजन: जनवरी
ऑफ़ सीजन: जून
लोक्रप्रियता: दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति
रेटिंग: ⭐⭐⭐⭐
टिकट प्राइस: ₹350
समय: 9 AM - 6 PM

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी - सम्पूर्ण यात्रा

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी एक साथ रहने वाले इंसानों का प्रतिनिधित्व करती है। यह मूर्ति सरदार वल्लभ भाई पटेल की याद में बनाई गई है। सरदार वल्लभ भाई पटेल भारत के लौह पुरुष के रूप में भी जाने जाते है। इनके बारे में हम आगे बात करेंगे।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की संपूर्ण पर्यटक मार्गदर्शिका केवल इसी वेबसाइट पर उपलब्ध है। अगर आप यहां आने वाले हैं तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें। यहां आपको सारी जानकारी मिल जाएगी और आपको यहां आने से पहले सभी बातें पता होनी चाहिए।

Statue of Unity, Gujarat - Route, Timing, Cost, History, Guide
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, गुजरात

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की जानकारी

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी गुजरात के वडोदरा में नर्मदा नदी के तट पर स्थित है। जहां इसे सरदार सरोवर बांध के पास साधु बेट नामक द्वीप पर बनाया गया है। यह मूर्ति कंक्रीट और कांस्य सामग्री से बनी है। पहाड़ियों से गुजरती हुई नर्मदा नदी का नजारा मन को बहुत शांति देता है।

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity Guide
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी हाइट कम्पेरिज़न

राजपीपला निकटतम शहर है। अभी इस शहर का विकास नहीं हुआ है। लेकिन स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के आने से यह शहर काफी विकसित होता जा रहा है। पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण यहां का मौसम बहुत ही साफ होता है। यह मूर्ति समुद्र तल से 237.5 मीटर की ऊंचाई पर है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का जिओ लोकेशन इस पृष्ठ के नीचे उपलब्ध है। जिसे आप नीचे बताए गए गूगल मैप्स के जरिए बिना किसी परेशानी के वहां पहुंचा सकते हैं।
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का निर्माण भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी की देखरेख में किया गया था। लार्सन एंड टुब्रो कंपनी द्वारा इस स्टेचू का निर्माण करवाया गया, जो एक भारतीय निर्माण और इंजीनियरिंग कंपनी है। इस प्रतिमा को बनाने के लिए सरकार ने सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय एकता ट्रस्ट (SVPRET) की भी स्थापना की।

इस मूर्ति के डिजाइन का काम श्री राम वी. सुतार ने किया था। राम वी. सुतार पद्म भूषण और पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित एक लोकप्रिय मूर्तिकार हैं। दुनिया के सबसे बड़े मूर्ति डिजाइनर होने के कारण राम वी. सुतार का नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज है।
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण में 420 मिलियन डॉलर की लागत आई थी। इससे आप समझ ही गए होंगे कि इस मूर्ति के निर्माण में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं की गई। हालांकि यह काम भारत सरकार के हाथ में होने के कारण इसका इतना अधिक खर्च जायज था।

स्टैच्यू के अलावा पर्यटकों के लिए खास व्यवस्था की गई है। आप यहां ट्रैकिंग, कैंपिंग और राफ्टिंग भी कर सकते हैं। इस क्षेत्र में नदी और पहाड़ों होने के कारण आप शुद्ध प्रकृति का अनुभव करेंगे। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास आपको कई होटल और रेस्टोरेंट भी मिल जाएंगे।

आइए अब जानते हैं कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी क्यों बनाई गई ? और सरदार वल्लभ भाई पटेल का इतिहास क्या है ?

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity Guide
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, गुजरात

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का इतिहास

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी एक स्मारक है। जिसे सरदार वल्लभ भाई पटेल की याद में बनाया गया है। सरदार वल्लभ भाई पटेल को भारत के लौह पुरुष के रूप में भी जाना जाता है। आइए जानते हैं उनकी मूर्ति क्यों बनाई गई थी ?

सन 1930 के दशक में सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के सबसे प्रसिद्ध वकील थे। महात्मा गांधी के संपर्क में रहने के कारण उनकी राजनीति में रुचि हो गई। बहुत कुशल और विश्वसनीय व्यक्ति होने के कारण लोग उन्हें राजनीति में लाने लगे।

सरदार वल्लभभाई पटेल को भारत का पहला उप प्रधान मंत्री और गृह मंत्री भी बनाया गया था। सरदार वल्लभ भाई पटेल ने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन भी शुरू किया, जिसमें उन्हें लोगों का भरपूर समर्थन मिला।

1947 में भारत की आजादी के बाद भारत के सभी राज्य के लोगों ने अपने अपने शहर को अलग अलग देश मानने लगे थे। कहा जाता है कि भारत एक देश नहीं बनाना चाहता था। बल्कि लोगों ने अपना अलग देश बनाना शुरू कर दिया। इस तरह भारत के कुल 565 टुकड़े हो गए। तब सरदार वल्लभ भाई पटेल ने अपने बल पर सभी राज्यों को एकजुट किया और फिर से एक नया भारतीय देश बनाया।

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity Guide
सरदार वल्लभ भाई पटेल का इतिहास

कुछ मुसलमानों को अभी भी संतुष्टि नहीं मिल रही थी, तो उन्होंने उनके लिए भारत के कुछ टुकड़े दे दिए, जिसे अब पाकिस्तान और बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है। इतिहास की माने तो आजादी के बाद भारत का अंत हो गया था। और अंग्रेजों के जाने के बाद भारत का नेतृत्व करने वाला कोई नहीं था। इसलिए स्थानीय लोग अपने शहर को एक नया देश बनाने में लगे हुए थे।

अगर उस दिन सरदार वल्लभभाई पटेल न होते तो भारत आज भी 565 विभिन्न देशों का समूह बन कर रह जाता। इस प्रतिमा को उनके महान कार्य की स्मृति में 13 अक्टूबर 2018 को बनाया गया था। जिसका उद्घाटन भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने किया था।

इस प्रतिमा का उद्घाटन सरदार वल्लभ भाई पटेल जयंती के दिन किया गया था। मुझे उम्मीद है कि आप स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के इतिहास को समझ गए होंगे। यह मूर्ति साथ रहने के बारे में है। इसे सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति के नाम से भी जाना जाता है। अब मैं आपको बताता हूँ कि आप यहाँ कैसे पहुँच सकते हैं?

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक कैसे पहुंचे ?

निकटतम हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन वडोदरा में उपलब्ध हैं। अगर आप हवाई जहाज से या ट्रेन से आ रहे हैं तो आपको सबसे पहले वडोदरा आना होगा। वडोदरा से 89 किलोमीटर दूर केवड़िया जाना है। फिर यहां से 3.5 किलोमीटर दूर साधु द्वीप पहुंचना है। आप बस, कार या बाइक से भी केवड़िया आ सकते हैं।

केवड़िया में आपको दो जगह टेंट हाउस यानि कैंप मिल जाएंगे, आप यहां आराम से रह सकते हैं। इसके अलावा आपको भारत भवन कॉम्प्लेक्स नाम का 3 सितारा होटल भी मिलता है जिसमें 52 कमरे हैं। यहां ठहरने के लिए आपको कमरे थोड़े महंगे मिलेंगे। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी इस होटल से सिर्फ 3 किलोमीटर दूर है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक पहुंचने में आपको ज्यादा से ज्यादा 10 मिनट का समय लगेगा।
  • नजदीकी बस स्टॉप: स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का सबसे नजदीकी बस स्टॉप पोर है। यह सिर्फ 86.4 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी रेलवे स्टेशन: वडोदरा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है। यह सिर्फ 90.5 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी हवाई अड्डा: वडोदरा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का सबसे नजदीकी बस स्टॉप है। यह सिर्फ 91.6 किमी की दूरी पर है।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी टाइमिंग

आपके पास प्रतिदिन सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक स्टैच्यू ऑफ यूनिटी घूमने का समय होगा। मूर्ति के ऊपर तक जाने के लिए आपको पहले टिकट खरीदना होगा। वैसे आप स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के लिए ऑनलाइन टिकट भी बुक कर सकते हैं।

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity Guide
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, गुजरात

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी टिकट प्राइस 2022

आपको दो तरह के टिकट मिलेंगे, डेक व्यू और एंट्री व्यू। जिसमें आप स्टैच्यू ऑफ यूनिटी साइट, सरदार पटेल मेमोरियल, म्यूजियम और सरदार सरोवर बांध के साथ-साथ स्टैच्यू के अंदर भी जा सकते हैं।

दूसरा टिकट परिसर में सिर्फ प्रवेश के लिए एक लाइट टिकट है। जिसमें आप फूलों की घाटी, स्मारक, संग्रहालय और ऑडियो-विजुअल गैलरी के साथ सरदार सरोवर बांध के दर्शन कर सकते हैं। बस आप इस टिकट से मूर्ति के अंदर नहीं जा सकेंगे।
टिकट प्राइस
15 साल से कम ₹60
15 साल से ज्यादा ₹120
3 साल से कम फ्री
डेक व्यू ₹350

आपको एक बात बता दें कि केवडिया से साधु द्वीप पहुंचने के लिए स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की विशेष बस भी उपलब्ध है। यदि आपने अपने लिए डेक व्यू या एंट्री व्यू टिकट लिया है। तब आपके लिए बस का किराया मुफ्त होगा। प्रतिमा के सीने तक पहुंचने के बाद यानी स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के अंदर आप मेन गैलरी में पहुंचेंगे, जहां से आप सरदार सरोवर बांध देख सकते हैं। और आप आसपास के पहाड़ी इलाकों का नजारा भी देख सकते हैं। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में रोशनी की पूरी व्यवस्था है जो इसे रात में भी काफी शानदार बनाती है।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी कहां स्थित है ?
स्टैच्यू ऑफ यूनिटी गुजरात के वडोदरा में नारदमा नदी के पास केवडिया शहर में स्थित है। इसका पूरा पता है: 
सरदार सरोवर बांध, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी रोड, केवडिया, गुजरात 393155, भारत

Q. सरदार वल्लभभाई पटेल कौन थे ?
सरदार वल्लभभाई पटेल एक स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने बिखरे हुए भारत को फिर से जोड़ा।

Q. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक कैसे पहुंचे ?
यहां पहुंचने के लिए आपको पहले जुगरात के वडोदरा जाना होगा। और फिर आपको केवड़िया शहर पहुंचना होगा और फिर आप आसानी से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक जा सकते हैं।

Q. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के दर्शन करने में कितना खर्च आता है ?
सभी गतिविधियों के साथ, आप लगभग 500 INR का खर्च आएगा। इसमें किराया और खाना पीना शामिल नहीं है।

Q. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने का सबसे अच्छा समय क्या है ?
आप यहां महीने के अक्टूबर से मार्च के महीने में आ सकते हैं। और आप सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक परिसर के अंदर रह सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें