वैष्णो देवी मंदिर - कब जाएं, कैसे जाएं, टिकट प्राइस, होटल, महत्वपूर्ण जगहें

क्या आप वैष्णो देवी मंदिर घूमना चाहते हैं ? आपको पता होना चाहिए कि वैष्णो देवी मंदिर कैसे पहुंचे, सही समय, टिकट प्राइस और आस पास की सभी महत्वपूर्ण जगह

वैष्णो देवी मंदिर भारत का सबसे प्रमुख मंदिर है। यह जम्मू राज्य के कटरा जिले में स्थित है। यहां हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु माता वैष्णो देवी के दर्शन करने आते हैं। वैष्णो देवी मंदिर भारतीय यात्रियों की पहली पसंद माना जाता है।

अगर आप भी माता वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन करना चाहते हैं तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। जैसे वैष्णो देवी मंदिर कैसे पहुंचे ? यहां आस पास कौन-कौन सी जगहें हैं ? होटल और भोजन का खर्चा कितना होगा ? आपको यहां वैष्णो देवी मंदिर के बारे में सारी जानकारी मिल जाएगी।

पीक सीजन: जनवरी
ऑफ़ सीजन: अगस्त
लोकप्रियता: भारत का प्रमुख मंदिर
रेटिंग: ⭐⭐⭐⭐⭐
टिकट: फ्री
समय: 24x7

Vaishno Devi Temple Full Guide - Location, Timing, Ticket Price
वैष्णो देवी मंदिर

वैष्णो देवी मंदिर - सम्पूर्ण यात्रा

माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए आपको सबसे पहले कटरा रेलवे स्टेशन या कटरा बस स्टॉप पहुंचना होगा। रेलवे स्टेशन के पास आपको कई सस्ते होटल मिल जाएंगे। आपको नीचे सस्ते होटलों की लिस्ट मिल जाएगी। आप होटल में आराम करें, अपना सामान अपने कमरे में रखें और फिर अपनी यात्रा शुरू करें।

यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि आपके पास कोविड टीकाकरण का प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है। साथ ही मास्क अनिवार्य है। किसी भी तरह के कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन आपकी यात्रा को बाधित कर सकता है। यात्रा शुरू करने से पहले आपको यात्रा पर्ची लेनी होगी। आप यात्रा पर्ची ऑनलाइन भी बना सकते हैं। या आप चाहें तो कटरा रेलवे स्टेशन से भी प्राप्त कर सकते हैं।

वैष्णो देवी मंदिर की यात्रा शुरू करने के लिए आपको सबसे पहले बाणगंगा पहुंचना होगा। यहीं से माता वैष्णो देवी की यात्रा शुरू होती है। आप बाणगंगा में टिकट यानि यात्रा पर्ची दिखाकर आगे की यात्रा शुरू कर सकेंगे। वैष्णो देवी मंदिर बाणगंगा से 10.9 किमी दूर है। बाणगंगा से वैष्णो देवी मंदिर पहुंचने में लगभग 12 घंटे लगते हैं। बाणगंगा में स्नान करने से माता वैष्णो देवी की यात्रा पवित्र मानी जाती है।

Vaishno Devi Temple Trek Full Guide
वैष्णो देवी मंदिर ट्रेक

आप चाहें तो इसे एक दिन में पूरा भी कर सकते हैं. या फिर आप बीच रास्ते में आराम भी कर सकते हैं। अपनी यात्रा को आसान बनाने के लिए आप रस्ते से एक छड़ी भी ले सकते हैं। यह छड़ी आपको पहाड़ की चढ़ाई में मदद करेगी। लाल चुनरी को आप सिर पर बांधने के लिए भी ले सकते हैं। और आप माता वैष्णो देवी की जयकार लगा कर अपनी यात्रा शुरू कर सकते हैं।

आपको रास्ते में बहुत सी सीढ़ियों के शॉर्टकट भी दिखाई देंगे। इन शॉर्टकट के जरिए आप माता के मंदिर तक जल्दी पहुंच सकते हैं। रास्ते में आपको कई बाजार मिल जाएंगे। इसमें आपको होटल, रेस्टोरेंट, गिफ्ट शॉप, मेडिकल क्लीनिक, मसाज पार्लर और कुछ फोन बूथ मिल जाएंगे। आपको कुछ लोकप्रिय मंदिर भी देखने को मिलेंगे।

कटरा में आपको हर जगह ऐसे पुलिस स्टेशन देखने को मिलेंगे जो आपकी मदद के लिए हमेशा तैनात रहते हैं। यदि आपको कोई समस्या आती है तो आप कटरा के हेल्पलाइन नंबर 01991-232329, 9797477777 पर कॉल कर सकते हैं। यदि भवन के पास आपको कोई समस्या आती है तो आप भवन हेल्पलाइन नंबर 01991-282223 पर कॉल कर सकते हैं।

ताराकोट से वैष्णो देवी मंदिर (नया और छोटा रास्ता)

वैष्णो देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए सरकार द्वारा एक नई सड़क बनाई गई है। जो तारकोट से शुरू होता है। अगर आप भीड़ से बचना चाहते हैं तो इस नए रास्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन यहां से आपको ट्रेकिंग करके मुख्य भवन तक जाना होगा। क्योंकि यहां कोई परिवहन उपलब्ध नहीं है। साथ ही इस सड़क पर बहुत कम दुकानें मिलती हैं। ताराकोट से भवन के बीच की दूरी मात्र 7 किमी रह जाती है।

चरण पादुका मंदिर

यात्रा की शुरुआत से 3 किमी दूर आपको पहला मंदिर चरण पादुका मंदिर देखने को मिलेगा। यह एक बहुत ही लोकप्रिय मंदिर है। इस मंदिर में आपको माता वैष्णो देवी की लकड़ी की चप्पल देखने को मिलेंगी। यह चप्पल कई लाख साल पुरानी है। इसे देखने के लिए हमेशा भीड़ लगी रहती है।

अधकुंवारी मंदिर

अधकुवारी बाणगंगा से 7 किमी की दूरी पर है। अधकुंवारी में आपको एक मंदिर देखने को मिलेगा। आप यहां रुककर थोड़ा आराम भी कर सकते हैं। अधकुंवारी में एक घोषणा प्रणाली भी उपलब्ध है। अगर आप खो गए हैं या कोई और खो गया है तो आप यहां से अनाउंसमेंट करवा सकते हैं। इसके साथ ही आप यहां कुछ कंबल के साथ एक कमरा भी बुक कर सकते हैं। अधकुवारी से भवन की दूरी 5 किमी है।

Adhkuwari Vaishno Devi Temple Full Guide
अधकुवारी - वैष्णो देवी मंदिर (Source)

कहा जाता है कि माता वैष्णो देवी ने यहां नौ माह तक तपस्या की थी। इसलिए इसे गर्भगुरा (गर्भगृह) भी कहा जाता है। यहां एक मंदिर है जिसे अधकुवारी के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर के दर्शन के लिए आपको एक और यात्रा पर्ची भी लेनी होगी। यह यात्रा पर्ची आपको मंदिर के पास ही काउंटर पर मिल जाएगी।

अगर आप चलते-चलते थक गए हैं तो आप यहां से बैटरी कार के जरिए भी भवन पहुंच सकते हैं। और आप भवन से वापस यहां भी आ सकते हैं। बैटरी कार का किराया नीचे दिया गया है।

वैष्णो देवी मंदिर बैटरी कार किराया सूची

टेक्सीकिराया
अधकुवारी से भवन₹356
भवन से अधकुवारी₹236

भवन | वैष्णो देवी मंदिर के अंदर

मुख्य भवन में पहुंचते ही आपको अपना सारा सामान एक लॉकर में जमा करवाना होगा। आप भवन के अंदर मोबाइल, कैमरा, चमड़े की बेल्ट, जूते और चप्पल नहीं ले जा सकते। आपको एक व्यक्तिगत लॉकर दिया जाएगा जो बिल्कुल मुफ्त है।

Inside-Mata-Vaishno-Devi temple
भवन - वैष्णो देवी मंदिर - (Source)

एक लंबी कतार के बाद आप एक गुफा में पहुंचेंगे। जहां आखिरी में आपको माता वैष्णो देवी जी के तीन पत्थर के आकार के शरीर दिखाई देंगे। पहला पिंड माता सरस्वती का है। दूसरा पिंड माता लक्ष्मी का है। और तीसरा पिंड माता काली देवी का है।

भेंट प्रसाद की दुकानें मुख्य भवन के पास ही मिल जाएंगी। माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए आप भेंट प्रसाद भी खरीद सकते हैं। भेंट प्रसाद की मूल्य सूची नीचे दी गई है। दर्शन के बाद आप इसी लाइन से गुफा से बाहर निकलेंगे। फिर आप यहां से भैरों बाबा के दर्शन के लिए जा सकते हैं।

वैष्णो देवी भंत प्रसाद दर सूची 2022

भेंट प्रसादप्राइस
भेंट प्रसाद स्मॉल₹20
भेंट प्रसाद मेडियम₹55
भेंट प्रसाद बिग₹70
चुन्नी₹130
HK ब्रेसलेट₹20

Bairava Baba Temple

मुख्य भवन के दर्शन करने के बाद भैरों बाबा के मंदिर में दर्शन करना भी आवश्यक माना जाता है। भैरों बाबा का मंदिर मुख्य भवन से 2 किमी की दूरी पर है। आप चाहें तो भैरों बाबा के मंदिर तक पहुंचने के लिए रोपवे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। रोपवे टिकट की कीमत 100 रुपये है जिसमें वापसी भी शामिल है। और आप घोड़े का भी उपयोग कर सकते हैं। जिसके लिए आपको एक व्यक्ति के लिए 350 रुपये देने होंगे।

भैरों बाबा मंदिर का समय

सीजनसमय
सुबह7AM - 3:30PM
शाम7PM - 8:30PM

कटरा मार्केट | शहर का केंद्र

कटरा का बाजार काफी लोकप्रिय है। यहां आप कपड़े, आभूषण, उपहार और बर्तन भी खरीद सकते हैं। कटरा में सूखे मेवे बहुत लोकप्रिय हैं। यहां से आप अच्छी क्वालिटी के ड्राई फ्रूट्स खरीद सकते हैं। इसके साथ ही आप यहां से माता वैष्णो देवी का प्रसाद भी खरीद सकते हैं। बाजार में आपको कई रेस्टोरेंट भी देखने को मिल जाएंगे, जिनमें आप कई तरह के टेस्टी व्यंजन ट्राई कर सकते हैं।

Katra - Vaishno Devi Temple Full Guide
कटरा - वैष्णो देवी मंदिर (Source)

वैष्णो देवी मंदिर का इतिहास

जब धरती पर अधर्मियों की संख्या बढ़ती जा रही थी। और धर्म का नाश हो रहा था। तब माता लक्ष्मी, माता दुर्गा और माता सरस्वती जैसे आदिशक्ति के तीन अवतारों ने मिलकर एक महिला को प्रकट किया।

इस महिला का जन्म त्रेतायुग में दक्षिण भारत के ग्राम रामेश्वर में एक पंडित रत्नाकर के यहाँ हुआ था। पंडित ने इस बेटी का नाम वैष्णवी रखा। नौ साल की उम्र के बाद, वैष्णवी को पता चला कि भगवान विष्णु ने भी इस युग में राम का अवतार लिया है। तब उसने राम को अपना पति मान लिया और उसे पाने के लिए तपस्या करने लगी।

सीता के अपहरण के बाद जब राम सीता की खोज में रामेश्वर पहुंचे तो उन्होंने समुद्र तट पर विष्णु नाम का तपस्या करते इस महिला को देखा। श्री राम जब पास पहुंचे तब वैष्णवी ने राम को अपना पति बनने के लिए कहा।

लेकिन राम ने कहा कि उन्होंने पहले ही सीता से शादी कर ली है। फिर बाद में उन्होंने कहा कि कलियुग में कल्कि अवतार लेंगे तो वह मेरी पत्नी बन सकती हैं। इतना कहकर उन्होंने आदेश दिया कि तब तक तुम हिमालय के त्रिकूट पर्वत में तपस्या करो। और पृथ्वी के लोगों का कल्याण करो।

तब से वैष्णवी अभी तक जम्मू के त्रिकूट पर्वत पर कलियुग के कल्कि की प्रतीक्षा में तपस्या कर रही है। जिसे आज माता वैष्णो देवी की गुफा में तीन पत्थर के आकार के पिंडों के रूप में जाना जाता है। जो मुख्य भवन में है।

वैष्णो देवी मंदिर टिकट प्राइस 2022

आप घोड़ा, पिठू, या पालकी की सेवाओं के लिए रास्ते में किसी भी प्रीपेड काउंटर पर जा सकते हैं। मुख्य प्रीपेड काउंटर कटरा में चेतक भवन के पास स्थित है। आप प्रीपेड काउंटर से पहले भुगतान करके टिकट खरीद सकते हैं। पीथु और पालकी के लिए प्रीपेड काउंटर पार्वती भवन में स्थित है। और पोनी के लिए प्रीपेड काउंटर भैरों मार्ग पर गौरी भवन के पास स्थित है।

वैष्णो देवी मंदिर पालकी प्राइस लिस्ट 2022

रुटपाल्की (-100kg)पाल्की (+100kg)
कटरा (चेतक भवन) से बाणगंगा₹250₹300
चरणपादुका से कटरा (चेतक भवन)₹800₹1000
अधकुवारी से कटरा (चेतक भवन)₹1750₹2200
सांझीछत से कटरा (चेतक भवन)₹2950₹3700
कटरा (चेतक भवन) से सांझीछत होते हुए भवन तक₹3700₹4650
कटरा (चेतक भवन) से हिमकोट होते हुए भवन तक₹3100₹3900
बाणगंगा से चरणपादुका₹550₹700
बाणगंगा से अधकुवारी₹1500₹1900
बाणगंगा से सांझीछत₹2700₹3400
बाणगंगा से भवन सांझीछत होते हुए₹3450₹4300
हिमकोटि से होते हुए बाणगंगा से भवन₹2850₹3600
चरणपादुका से अधकुवारी₹1000₹1250
चरणपादुका से सांझीछत₹2150₹2700
चरणपादुका से सांझीछत होते हुए भवन₹2900₹3650
चरण पादुका से हिमकोटि से होते हुए भवन₹2300₹2900
अधकुवारी से सांझीछत₹1200₹1500
अधकुवारी से सांझीछत होते हुए भवन₹2000₹2500
अधकुवारी से हिमकोटि होते हुए भवन₹1400₹1750
सांझीछत से भवन₹1500₹1900
भवन से भैरों मंदिर₹1000₹1250
भवन से सांझीछत₹1800₹2250
भवन से भैरों मंदिर होते हुए अधकुवारी ₹2700₹3400
भवन से भैरों मंदिर होते हुए चरणपादुका ₹3700₹4600
भवन से भैरों मंदिर होते हुए बाणगंगा ₹4600₹5750
भवन से भैरों मंदिर होते हुए कटरा (चेतक भवन)₹4850₹6050
भैरों से सांझीछत₹1000₹1250
भैरों मंदिर से अधकुवारी₹1900₹2400
भैरों मंदिर से चरणपादुका₹2800₹3500
भैरों मंदिर से बाणगंगा₹3700₹4600
भैरों मंदिर से कटरा (चेतक भवन)₹3950₹4950

वैष्णो देवी मंदिर पिठू, पोनी, घोड़ा और खच्चर मूल्य सूची 2022

माता वैष्णो देवी मंदिर के मुख्य भवन तक पहुंचने के लिए आप पिठू, पोनी, घोड़े और खच्चर का भी उपयोग कर सकते हैं। अगर आप पोनी, हॉर्स और खच्चर का इस्तेमाल करेंगे तो आप एक बच्चे को अपने साथ ले जा सकते हैं। लेकिन सुनिश्चित करें कि बच्चे की उम्र 6 साल से कम होनी चाहिए।

रुटपिठूपोनी, घोड़ा और खच्चर
(वयस्क+बच्चा - 6 साल)
कटरा (चेतक भवन) से बाणगंगा₹50₹100+₹10
कटरा (चेतक भवन) से चरणपादुका₹150₹300+₹30
कटरा (चेतक भवन) से अधकुवारी₹300₹600+₹100
कटरा (चेतक भवन) से सांझीछत₹500₹1000+₹200
कटरा (चेतक भवन) से सांझीछत के रास्ते भवन₹600₹1200+₹200
कटरा (चेतक भवन) से हिमकोटी के रस्ते भवन₹500NA
बाणगंगा से चरणपादुका₹100₹200+₹20
बाणगंगा से अधकुवारी₹250₹500+₹100
बाणगंगा से सांझीछत₹450₹900+₹200
बाणगंगा से सांझीछत होते हुए भवन₹550₹1100+₹200
बाणगंगा से हिमकोटि होते हुए भवन₹450NA
चरणपादुका से अधकुवारी₹150₹300+₹100
चरणपादुका से सांझीछत₹350₹700+₹200
चरणपादुका से सांझीछत होते हुए भवन₹450₹900+₹200
चरणपादुका से हिमकोटि से होते हुए भवन₹350NA
अधकुवारी से सांझीछत₹200₹400+₹100
अधकुवारी से सांझीछत होते हुए भवन₹300₹600+₹100
अधकुवारी से हिमकोटि से होते हुए भवन₹200NA
सांझीछत से भवन₹200₹350+₹50
भवन से भैरों मंदिर₹200₹350+₹50
भवन से सांझीछटो₹350₹600+₹100
भवन से भैरों मंदिर होते हुए अधकुवारी ₹500₹1000+₹200
भवन से भैरों मंदिर होते हुए चरणपादुका ₹700₹1300+₹200
भवन से भैरों मंदिर होते हुए बाणगंगा₹800₹1500+₹200
भवन से भैरों मंदिर होते हुए कटरा (चेतक भवन)₹850₹1600+₹200
भैरों मंदिर से सांझीछत₹150₹250+₹100
भैरों मंदिर से अधकुवारी₹350₹650+₹200
भैरों मंदिर से चरणपादुका₹450₹950+₹200
भैरों मंदिर से बाणगंगा₹600₹1150+₹200
भैरों से कटरा (चेतक भवन)₹650₹1250+₹200

वैष्णो देवी की यात्रा हेलीकाप्टर से करें

यदि आप 12 घंटे की कठिन चढ़ाई नहीं करना चाहते हैं, तो आप हेलीकॉप्टर के माध्यम से भी सीधे मुख्य भवन पहुंच सकते हैं। हेलीकॉप्टर से आप कटरा से सांझीछत पहुंचेंगे। जो भवन का नजदीकी हेलीपैड है।

सांझीछत कटरा से 9.5 किमी दूर है, जो 6080 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह आपको सिर्फ 5 मिनट में आपकी मंजिल तक पहुंचा देगा। फिर सांझीछत से 2.5 किमी की यात्रा के बाद आप सीधे भवन पहुंचेंगे। एक तरफ के लिए हेलीकॉप्टर का किराया 1800 रुपये प्रति व्यक्ति है। आप अपना स्लॉट ऑनलाइन बुक कर सकते हैं।

वैष्णो देवी मंदिर कैसे पहुंचे ?

  • नजदीकी बस स्टॉप: कटरा वैष्णो देवी मंदिर का सबसे नजदीकी बस स्टॉप है। यह सिर्फ 1.7 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी रेलवे स्टेशन: श्री माता वैष्णो देवी कटरा वैष्णो देवी मंदिर का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है। यह सिर्फ 18.3 किमी की दूरी पर है।
  • नजदीकी हवाई अड्डा: जम्मू हवाई अड्डा वैष्णो देवी मंदिर का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है। यह सिर्फ 50 किमी की दूरी पर है।

अगर आप दिल्ली से वैष्णो देवी मंदिर आना चाहते हैं, तो आप दिल्ली के कश्मीरी गेट से बस के जरिए सीधे कटरा बस स्टैंड पहुंच सकते हैं।

वैष्णो देवी मंदिर जाने में कितना खर्च होता है ?

वैष्णो देवी मंदिर सबसे सस्ती जगहों में से एक है। यहां आपको 500 रुपये में एक होटल रूम भी मिल सकता है। एक जोड़े के लिए वैष्णो देवी यात्रा में लगभग 2000 रुपये का खर्च आएगा। इसमें आपका होटल और खाना-पीना शामिल है। यदि आप भवन पहुंचने के लिए किसी परिवहन का उपयोग करते हैं, तो आपके खर्चे बढ़ेंगे।

वैष्णो देवी मंदिर घूमने का सबसे अच्छा समय

आप कभी भी वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। यह कभी बंद नहीं होता। लेकिन वैष्णो देवी मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च के महीने का है। जनवरी में आप यहां बर्फबारी का मजा भी ले सकते हैं। बरसात के दिनों में यहां भूस्खलन होता रहता है। इसलिए बरसात के मौसम में न आएं।

वैष्णो देवी मंदिर के पास सर्वश्रेष्ठ होटल

होटल्सकॉन्टैक्ट
Hotel Aashirwad ⭐⭐01991 234 433
Vidya Guest House097973 06090
Hotel Ishan ⭐⭐⭐094191 85570
Hotel Shree Palace ⭐⭐⭐091037 88888
Shrine View+91 001991 233708

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. वैष्णो देवी मंदिर क्यों प्रसिद्ध है ?
वैष्णो देवी मंदिर अपने इतिहास के कारण इतना लोकप्रिय है। जब आप मुख्य भवन में माता वैष्णो देवी के तीन पत्थर के आकार के शरीर देखेंगे। दरअसल, वह माता वैष्णो देवी हैं और वे कल्कि की प्रतीक्षा में तपस्या कर रही हैं।

Q. माता वैष्णो देवी मंदिर का निर्माण किसने करवाया था ?
पहले यह सिर्फ एक गुफा थी। फिर 1846 में महाराजा गुलाब सिंह ने इस गुफा की खोज की और पांच लाख रुपये का दान देकर इस मंदिर का निर्माण करवाया।

Q. भारत में वैष्णो देवी मंदिर कहाँ है ?
वैष्णो देवी मंदिर भारत के जम्मू राज्य के कटरा जिले में स्थित है। इस स्थान का पिन कोड 182301 है। यह मंदिर हिमालय के पहाड़ों के बीच स्थित है।

Q. वैष्णो देवी के लिए कौन सा समय सबसे अच्छा है ?
वैष्णो देवी मंदिर जाने के लिए सर्दी का मौसम सबसे अच्छा होता है। अक्टूबर से मार्च का महीना यहां घूमने के लिए सबसे अच्छा महीना है।

Q. वर्तमान समय में वैष्णो देवी में पंडित कौन है ?
पंडित श्रीधर और उनके वंशज 10वीं शताब्दी से इस मंदिर की देखभाल और पूजा करते आ रहे हैं। 10वीं शताब्दी में पंडित श्रीधर त्रिकुटा पर्वत के हंसाली गांव में रहते थे। और आज भी उनके वंशज यहीं रहकर वैष्णो देवी मंदिर की देखरेख कर रहे हैं।

एक टिप्पणी भेजें